Saturday, September 11, 2010

क्या बदलाव ज़रूरी है?


नज़र उठा के नज़र चुराना अपने गुरूर से
जज़्बात ही अकेला बहाना है इकरारे हुज़ूर से

सीरत की क्या बिसात है रिवाजे खन-खून में
जिस्म्पोशी ही ज़रूरी है आज बाजारे जूनून में

सिक्का खनक के क्या गुल खिलायेगा
उसकी चमक तो अब कागजे-नोट ले जाएगा

वक़्त के साथ बदलना ज़रूरी है अब यहाँ के खून में
वरना काबिलियत हो जायेगी ख़ाक फिर इस माहे-जून में

साहिलों के साथ किनारा ढूँढती रह जायेगी कश्ती हमारी
रूह को जला के ख़ाक कर देगी ये चकाचोंद की बिमारी 
तेज़ तूफ़ान में जैसे छूट जायेगी हमारे सपनो को सवारी
लगता है सुकूने-ज़िन्दगी को कैद कर ले जायेगी अब ये चार-दीवारी

गम को छुपा के यहाँ कौन रह पायेगा
यह वक़्त है-फिर एक बार रंग दिखायेगा
बच गए इस बदलाव से तो इतिहास बन जाएगा
नहीं तो फिर एक बार जुबां से सुकूने-लफ्ज़ छिन जाएगा 


6 comments:

  1. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से


    कृपया अपने ब्लॉग से वर्ड वैरिफ़िकेशन को हटा देवे इससे लोगों को टिप्पणी देने में दिक्कत आती है।

    ReplyDelete
  2. अच्छा प्रयास है...जारी रखिए...वर्तनी पर थोड़ा ध्यान दीजिए तो अच्छा होगा....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  4. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  5. इस सुंदर से चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete